भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

मार्च 05, 2013

भावना



"प्रेम एक भावनागत विषय है, भावना ही से उसका पोषण होता है, भावना ही से लुप्त हो जाता है । प्रेम भौतिक वस्तु नहीं है ।"

- मुँशी प्रेमचंद 




16 टिप्‍पणियां:

  1. प्रेम भावना पर ही पलता है.. सुंदर विचार..तभी न कहते हैं भगवान भाव के भूखे हैं..और यह भी कि जिस जिस भाव से कोई उन्हें भजता है उसी भाव में उन्हें पाता है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढि़या कलेक्शन
    फोटो, सूक्तिया, गलत और खलील जिब्रान का लेखन

    उत्तर देंहटाएं
  3. लाजवाब अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेनामीसितंबर 22, 2013

    सुन्दर विचार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेनामीसितंबर 22, 2013

    सुन्दर विचार हैं आपके

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रेम, प्रेमचंद और भावना.............एक साथ बहुत खूब.............

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर सुविचार प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. नमस्कार जी
    http://blogsetu.com/
    कृपया आप अपने अधिकतम पांच ब्लॉगस को ब्लॉगसेतु ब्लॉग एग्रीगेटर के साथ जोड़कर हमें कृतार्थ करें. इस माध्यम से हमारा प्रयास यही है कि आपकी उत्तम भावनाओं और विचारों से अधिक से अधिक व्यक्ति लाभान्वित हों. इसके साथ ही हमारा यह भी मकसद है कि हम हिंदी ब्लॉग जगत के ब्लॉगरों और ब्लॉगों का एक प्रमाणिक डाटा तैयार कर सकें....धन्यवाद सहित.. ब्लॉगसेतु टीम

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपको सपरिवार होली की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ .....!!
    http://savanxxx.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  11. निमंत्रण

    विशेष : 'सोमवार' २६ फरवरी २०१८ को 'लोकतंत्र' संवाद मंच अपने सोमवारीय साप्ताहिक अंक में आदरणीय माड़भूषि रंगराज अयंगर जी से आपका परिचय करवाने जा रहा है।

    अतः 'लोकतंत्र' संवाद मंच आप सभी का स्वागत करता है। धन्यवाद "एकलव्य" https://loktantrasanvad.blogspot.in/

    टीपें : अब "लोकतंत्र" संवाद मंच प्रत्येक 'सोमवार, सप्ताहभर की श्रेष्ठ रचनाओं के साथ आप सभी के समक्ष उपस्थित होगा। रचनाओं के लिंक्स सप्ताहभर मुख्य पृष्ठ पर वाचन हेतु उपलब्ध रहेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...