भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

मार्च 04, 2011

उद्धार


"किसी औरत के शब्द जितनी आसानी से दीन और ईमान को गारत कर सकते हैं, उतनी ही आसानी से उसका उद्धार भी कर सकते हैं|"


                                                                - मुँशी प्रेमचंद

8 टिप्‍पणियां:

  1. उसका यानि किसका ? कुछ अधूरा सा लगा, वैसे शब्दों की ताकत का लोहा तो मानना ही पड़ेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेनामीमार्च 04, 2011

    इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामीमार्च 04, 2011

    @ अनीता जी जिसका दीन और ईमान ख़राब होता है उसी का यानि पुरुष का|

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीतनी तारीफ करू ....वह कम ही है ! बहुत - बहुत धन्यवाद..

    !

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...