भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

जून 09, 2011

सुभार्या


"सुभार्या (गुणवती पत्नी), स्वर्ग की सबसे बड़ी विभूति है, जो मनुष्य के चरित्र को उज्जवल और पूर्ण बना देती है|  जो आत्मोन्नति का मूल मंत्र है |"


                                                                      - मुँशी प्रेमचंद 


7 टिप्‍पणियां:

  1. सच... जीवन की हर तरह की उन्नति में पत्नी की भूमिका महत्वपूर्ण होती है.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्य वचन और इसी तरह अच्छा पति भी आत्मोन्नति में सहायक हो सकता है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेनामीजून 13, 2011

    सत्य वचन...

    लेकिन mutual understanding जरूरी है...!

    ***punam***
    bas yun...hi..

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...