भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

दिसंबर 12, 2011

स्नेह


"संसार के सारे नाते स्नेह के नाते हैं, जहाँ स्नेह नहीं वहाँ कुछ भी नहीं |"

- मुँशी प्रेमचंद 



13 टिप्‍पणियां:

  1. सच्चाई यही है ....
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  2. सचमुच इस जगत के सारे सारे नाते स्नेह के नाते हैं...स्नेह न हो तो नातों में दरार पड़ जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सहमत आपकी बात से .. प्रेम जी जीवन है ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति,...बढ़िया पोस्ट

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....
    सपने में कभी न सोचा था,जन नेता ऐसा होता है
    चुन कर भेजो संसद में, कुर्सी में बैठ कर सोता है,
    जनता की बदहाली का, इनको कोई ज्ञान नहीं
    ये चलते फिरते मुर्दे है, इन्हें राष्ट्र का मान नहीं,

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलिमे click करे

    उत्तर देंहटाएं
  5. अति मनमोहक मोती - 'स्नेह', ... वाह !

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओशो सिद्धार्थ भी कहते हैं-
    कहने को कोई हमारा है
    तब तक ही यह जग प्यारा है

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप सभी लोगों का बहुत बहुत शुक्रिया|

    उत्तर देंहटाएं
  8. सही कहा....
    जब स्नेह ही न हो रिश्तों में तो उन्हें सिर्फ ढोया जाता है..
    नाम के तौर पर..!!

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...