भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

अप्रैल 21, 2012

आग और पानी



युवावस्था आवेशमय होती है, क्रोध से आग हो जाती है, करुणा से पानी हो जाती है|

- मुँशी प्रेमचंद 

11 टिप्‍पणियां:

  1. युवावस्था में जोश तो बहुत होता है होश की जरा कमी होती है..इसलिए थोड़ी सी बात पर आग हो जाती है, कोई समझा दे तो भीतर पश्चाताप भी होता है और हृदय द्रवित हो जाता है..इसलिए युवाओं को बुजुर्गों की कद्र करनी चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. शुक्रिया अनीता जी.....बुजुर्गों से ही तो हम सब कुछ सीखते हैं ।

      हटाएं
  2. वाह: बहुत सुन्दर प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसीलिए,बच्चन ने माना कि युग का जुआ युवाओं के कंधों पर ही होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. यह पंक्ति पढ़ते ही पूरा "गोदान" आँखों के सामने से गुजर गया |
    किसी ने सच ही कहा है कि "अगर किसी ने मुंशी प्रेमचंद को नही पढ़ा तो वह भारत को नही जान सकता "

    मेरा ब्लॉग आपके इंतजार में,समय मिलें तो बस एक झलक-
    "मन के कोने से..."
    आभार...

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...