भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

अक्तूबर 23, 2010

सत्य सेवा



"जहाँ रूप, यौवन, संपत्ति और प्रभुता प्रेम का बीज बोने में असफल रहते हैं वहाँ अक्सर उपकार का जादू चल जाता है| कोई ह्रदय ऐसा वज्र और कठोर नहीं, जो सत्य सेवा से द्रवीभूत न हो जाये|"
                                                                                   
                                                                  - मुँशी प्रेमचंद 

4 टिप्‍पणियां:

  1. bilkul sahi.aap ye tippadiyan premchand ji ki kis kriti se lete hain iska ullekh bhi kiya karen.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिल्कुल सही ..... ऐसा इस दुनिया में कई महान हस्तियों ने किया भी है.....बहुत सुंदर विचार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य सेवा का भाव भीतर जग जाना ही तो अपने आप में बहुत बड़ी उपलब्धि है , सचमुच इसका जादू सर चढ़ कर बोलेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मानवता की पहली शर्त और पहला धर्म भी यही है . पर............... . पुनः याद दिलाने के लिए बधाई ......

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...