भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

नवंबर 01, 2010

व्यंग्य


"आग चाहें फूस को न जला सके, काँच चाहे पत्थर की चोट से न टूट सके पर व्यंग्य विरले ही कभी ह्रदय को प्रज्ज्वलित करने, उसमे चुभने और उसे चोट पहुँचाने में असफल होता है|"
                                                                  
                                                                                      - मुँशी प्रेमचंद 

5 टिप्‍पणियां:

  1. सच तभी शायद कहा जाता है की शब्दों के बाण का घाव कभी नहीं भरता....
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  2. कहते हैं वाणी के घाव नहीं भरते तन के घाव भर जाते हैं, लेकिन समय सारे घावों को भर देता है .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिल्कुल सही कहा . प्रेमचंद की अनमोल वाणी को फिर से याद दिलाने के लिए आपको धन्यवाद . जारी रखिये ..........

    उत्तर देंहटाएं
  4. शब्द की शक्ति असीमित होती है , कभी जख्म पर मरह्म का काम कर जाती है तो कभी उम्र भर ना भरने वाला जख्म दे जाती है

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...