भारत ही नहीं वरन विश्व साहित्य में मुँशी प्रेमचंद जी का एक अलग स्थान है, और बना रहेगा | शायद ही कोई ऐसा साहित्य प्रेमी होगा, जिसने मुँशी प्रेमचंद जी को न पढ़ा हो | शायद अब उनके बारे में कुछ और कहने को बचा ही नहीं है| वो एक महान साहित्यकार ही नहीं, एक महान दार्शनिक भी थे | मेरी तरफ से उस महान कलम के सिपाही को एक श्रद्धांजलि के रूप में समर्पित यह ब्लॉग, जिसमे मैं उनके अमूल्य साहित्य में से उनके कुछ महान विचार प्रस्तुत करूँगा........

Click here for Myspace Layouts

दिसंबर 10, 2010

क्रोध की अग्नि



"क्रोध की अग्नि सदभावों को भस्म कर देती है| 
प्रेम और प्रतिष्ठा, दया और न्याय सब जलकर राख़ हो जाता है|"
          
         -  मुँशी प्रेमचंद

6 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सार्थक और सटीक विचार हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वैज्ञानिक भी कहते हैं कि क्रोध क्षणिक पागलपन है, पर सारे सद्भाव जो नष्ट हुए से लगते हैं वास्तव में क्रोध के धुएँ में छिप जाते होंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  3. इमरान साहब,
    क्रोध मनुष्य को पक्षतावे के सिवा कुछ नहीं देता है ! आपकी पोस्ट बहुत सार्थक है !
    आभार,
    -ज्ञानचंद मर्मज्ञ

    उत्तर देंहटाएं
  4. जी कोशिश तो रहती है इस अग्नि तो प्रज्वलित न होने दूँ .....

    उत्तर देंहटाएं

जो दे उसका भी भला....जो न दे उसका भी भला...